Tuesday, 25 October 2022

लिंग और वचन

 



लिंग - चिन्ह। जिस से संज्ञा शब्द का जाति जाना जाता है वो लिंग कहलाता है।

 लिं ग के दो प्रकार है 

1. पुल्लिंग

 2. स्त्रीलिंग।

 पुल्लिंग = पुरुष जाति के शब्द पुल्लिंग कहलाता है। जैसे  लडका, पहाड .

 स्त्रीलिंग = स्त्री जाति के शब्द स्त्रीलिंग कहलाता है। जैसे लडकी, कलम.


का, के, की से हिन्दी शब्दों के लिंग पहचान जाता है।

उदाहरण = पानी बहता है।

                   ऊँची इमारत।

                  राम की कलम।


वचन = शब्द रूप एक के लिए प्रयुक्त हो, या अनेक के लिए हो उसे वचन कहते है। 

वचन दो प्रकार के है -

1.  एकवचन 

2. बहुवचन।

 एकवचन = जो शब्द एक व्यक्ति या एक वस्तु का हो, उसे  एकवचन कहते है। 

  जैसे घोडा, रोटी, पुस्तक।

 बहुवचन = जो शब्द एक से अधिक व्यक्तियों या वस्तुओं  का हो, उसे बहुवचन कहते है।

  जैसे घोडे, रोटियाँ, पुस्तके।


वचन-परिवर्तन संबन्धी नियमों। 


पुल्लिंग शब्दों के नियम -

 अ को ए बनाना। 

जैसे  बकरा - बकरे, 

       लडका - लडके।

इन शब्दों का बहुवचन नही है। जैसे घर, भाई, डाकू।


स्त्रीलिंग शब्दों के नियम -


 ई को इ बनाना।

 लडकी - लडकियाँ,

 बकरी - बकरियाँ।


 याँ जोडना ।

 जाति - जातियाँ

रीति - रीतियाँ।


एँ जोडना ।

 वस्तु - वस्तुएँ,

 लता - लताएँ।





No comments:

Post a Comment

THOMAS LOVE PEACOCK'S POEM - LOVE AND AGE

  On the day 6 of the Blog chatter’s #WRITEAPAGEADAY, Here is a poem with love as the major theme.   Poet: Thomas Love Peacock Poem: ...