Tuesday, 18 May 2021

६ प्रकार के सर्वनाम


संज्ञा के बदले में जो शब्द आते है, वे सर्वनाम कहलाते है।

सर्वनाम के छे भेद हैं  -

1. पुरुषवाचक सर्वनाम - 
    कहनेवाला, सुननेवाला और जिसके बारे में बोला जाये, उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते है।

    उत्तमपुरुष   -  मैं, हम।
    उत्तमपुरुष - बोलनेवाला या लिखनेवाला अपने लिए जो शब्द प्रयोग करता है, 
                       वह उत्तमपुरुषवाचक सर्वनाम है। जैसे मैं, हम।
    मध्यमपुरुष  -  तू, तुम, आप।
    मध्यमपुरुष - लिखनेवाला या बोलनेवाला, सुननेवाला के लिए जो शब्द का प्रयोग करता है,
                        वह मध्यम पुरुष सर्वनाम कहलाता है। जैसे तू, तुम, आप।
    अन्यपुरुष    -  वह, यह, वे, ये।
    अन्यपुरुष - जिसके संबन्ध में कुछ कहा जाता है, उस शब्द को अन्यपुरुष सर्वनाम कहलाता है।
                       जैसे - वह, यह, वे, ये। 
2. निश्चयवाचक सर्वनाम - 
    पास या दूर की वस्तु को निश्चय से बताता है, वह निश्चयवाचक सर्वनाम है। जैसे - वह, यह, वे, ये।
3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम - 
    जो वस्तु को निश्चय से न ही बताता है, वह अनिश्चयवाचक सर्वनाम है। जैसे - कोई, कुछ।
4. प्रश्नवाचक सर्वनाम -
    जो प्रश्न को बोध करता है, वह प्रश्नवाचक सर्वनाम है। जैसे - कौन, क्या।
5. संबन्धवाचक सर्वनाम - 
    जो दो बातों का संबन्ध प्रकट करता है, वह संबन्धवाचक सर्वनाम है। 
    जैसे - जो मेहनत करता है सो सफल होता है।
6. निजवाचक सर्वनाम - 
    जो निजत्व को प्रकट करता है, वह निजवाचक सर्वनाम है। जैसे - अपना, स्वयं। 

No comments:

Post a Comment

SALUTE THE MARTYR'S FOR THEIR SACRIFICE

  Today, the January 30th t he death Anniversary of our Father of the Nation is observed as Martyr's day.   This day is  also known as S...